Feel the Need to Renew Yourself

Better Way to Renew Yourself Spiritually, Ideas for Self-Renewal, Begin The Renewal of Your Life, How to Renew Yourself and Get to the Next Level

Namaskaram, I hope you all are healthy and doing well in your life.

Today I expect forgiveness from you in advance for some things. Because by reading what I am going to say to you through my article today, maybe some of you may get a little hurt or maybe even feel that I am judging them. But I really have no intention of doing anything like this. So without destroying time, I come directly to my point.

It often happens to me that when I put an idea in front of people that they do not want to accept even when they want, they often avoid or try to ignore that by saying, "this is not my way..., this is practically not possible..., I am not a great person or a great man..., I am just an ordinary person..., or many other excuses."

Now you may be thinking that what do I want to make clear to you with all these things?
See it often happens with most of us that whenever your conscience or any other person advises you to improve yourself i.e. to improve yourself and keep your feelings according to yourself. So you do not pay much attention to all these things.
Just because you think that what you are now or whatever your mood is right now is better and right for you. 
So at this stage when you have already considered yourself right and better, then you are definitely challenging the system of development of life. Whereas the real introduction to life is to improve and get better with time.

Let us try to understand this with depth.
For most of us, if we change our way of thinking and feeling, we will definitely see that our life has changed tremendously.
If now we can think what we want, not in compulsion or anything else, then we will naturally be happy. If we can keep our feelings very pleasant right now, then our home will also be pleasant. Along with that, all our mental and emotional benefits are also naturally seen in social conduct.

Most of us feel that this is the biggest conversion. If someone can think and feel differently then he becomes a pleasant person. Then people usually say that he is a 'brilliant and spiritual person'. But in reality he is just a normal person, just other people are still developing.

So if we are aware, and we keep our emotions as we want, then we are only a human being. Other people who cannot even think or feel as they want. So of course it is a development issue.
हिंदी अनुवाद: नमस्कार, मुझे आशा है कि आप सभी स्वस्थ होंगे और अपने जीवन में अच्छा कर रहे होंगे।
आज मैं आपसे कुछ बातों के लिए पहले से ही क्षमा की अपेक्षा करता हूं। क्योंकि आज मैं अपने लेख के माध्यम से आपसे जो भी कहने जा रहा हूं उसे पढ़कर शायद आप में से कुछ लोगों को थोड़ा ठेस पहुंच सकता है या शायद उन्हें यह भी लग सकता है कि मैं उन्हें जज कर रहा हूं। परंतु वास्तव में मेरा ऐसा कुछ भी करने का कोई इरादा नहीं है। तो चलिए बिना समय नष्ट किए मैं सीधे अपनी बात पर आता हूं।

मेरे साथ यह अक्सर होता है कि जब मैं लोगों के सामने कोई ऐसा विचार रखता हूं जिसे वो चाहते हुए भी स्वीकार करना नहीं चाहते, तो वो अक्सर यह कहकर उस बात को टाल देते हैं या नजरअंदाज करने की कोशिश करते हैं कि "यह मेरा तरीका नहीं है ..., यह व्यावहारिक रूप से संभव नहीं..., मैं कोई महान इंसान या महापुरुष नहीं...,मैं तो बस एक साधारण इंसान हूं..., या और भी बहुत से बहाने।'

अब आप शायद ये सोच रहे होंगे कि मैं इन सब बातों से आपको स्पष्ट क्या करना चाहता हूं?
देखिए हम में से ज्यादातर लोगों के साथ अक्सर ऐसा होता है कि जब भी आपका अंतर्मन या कोई अन्य व्यक्ति आपको खुद में सुधार करने अर्थात खुद को बेहतर करने तथा अपनी भावनाओं को खुद के अनुसार रखने आदि की सलाह देता है। तो आप इन सब बातों पर ज्यादा ध्यान नहीं देते हैं।  

बस इसलिए क्योंकि आपको लगता है कि आप जो अभी हैं या अभी आपकी जो भी मनोवस्था है, वही आपके लिए बेहतर और सही है। तो इस अवस्था में जब आप पहले से ही खुद को सही तथा बेहतर मान चुके हैं, तो इस प्रकार आप निश्चित रूप से जीवन के विकास की प्रणाली को ही चुनौती दे रहे हैं। जबकि जीवन का वास्तविक परिचय ही समय के साथ खुद में सुधार करना तथा बेहतर होने से है।
चलिए इसे हम गहनता (depth) से समझने की कोशिश करते हैं-

हम में से ज्यादातर इंसानों के लिए यदि हमारे सोचने और महसूस करने का तरीका बदल जाए तो निश्चित रूप से हम देखेंगे कि हमारे जीवन में जबरदस्त बदलाव आया है।
अगर अभी हम वह सोच सकें जो हम चाहते हैं, मजबूरी में या कुछ और नहीं, तो हम स्वाभाविक रूप से आनंदित होंगे। अगर अभी हम अपनी भावनाओं को बहुत सुखद रख सकें तो हमारा घर भी सुखद होगा। उसके साथ ही हमारे सभी मानसिक और भावनात्मक फायदे भी स्वाभाविक रूप से सामाजिक आचरण में दिखते हैं ।

हम में से ज्यादातर लोगों को लगता है कि यही सबसे बड़ा रूपांतरण है। अगर कोई अलग ढंग से सोच पाता है और महसूस कर पाता है तो वो एक सुखद इंसान बन जाता है। तब लोग आमतौर पर यह कहते हैं कि वो एक 'शानदार तथा आध्यात्मिक व्यक्ति' हैं। परंतु वास्तव में वो केवल एक सामान्य  इंसान है, बस दूसरे लोग अभी भी विकसित हो रहें हैं।

इसलिए अगर हम जागरूक हैं, और हम अपनी भावनाओं को वैसे रखते हैं जैसे हम चाहते हैं, तो हम केवल एक इंसान हैं। दूसरे लोग जो ऐसा सोच भी नहीं सकते या महसूस भी नहीं कर सकते जैसा की वो चाहते हैं। तो निश्चित रूप से यह एक विकास का मुद्दा है।

Yogesh Maurya

Author & Editor

Hi! I introduce myself as Yogesh Maurya and I'm still a student. I'm little complecated. In short, "It is not possible for everyone to read me... I'm the book in which emotions are written instead of words..."

38 komentar:

  1. well written.......
    please visit my blog also...

    https://kidscricketcoaching.blogspot.com/2020/05/episode-16-back-foot-drive-29052020.html

    ReplyDelete
  2. Very nice thoughts...agreed with each and every point.

    ReplyDelete
  3. Hello! I came across your blog on social media. Your article is very good. Do read our blog and support Reliance Jio Mart

    ReplyDelete
  4. Good article, you could try use medium.com for blogging.

    ReplyDelete
  5. very nice content
    please visit my blog
    https://kidscricketcoaching.blogspot.com/2020/06/episode-17-square-cut-01062020.html

    ReplyDelete
  6. Great thought ...
    And it's really true..
    Keep up

    ReplyDelete
    Replies
    1. Thank you for your important time and valuable comment.

      Delete
  7. Positive 👌👌.. very well written

    ReplyDelete
  8. Good bro

    http://www.mindwaves.net/2020/06/quiz-on-top-10-world-navys.html

    ReplyDelete
  9. I’ve been browsing online more than 3 hours today, yet I never found any interesting article like yours. It’s pretty worth enough for me. In my opinion, if all webmasters and bloggers made good content as you did, the internet will be much more useful than ever before.

    Luxury Budget Hotels in Jaipur

    ReplyDelete
    Replies
    1. Thank you from the heart for your thoughts and words.
      I am glad that you liked my article.
      Thank you.

      Delete

Please do not enter any spam link in the comment box.